शुक्रवार, 18 फ़रवरी 2022

यह बयान चुनावी सियासत का सबसे घृणित बयान है ?

" जनरल बिपिन रावत हमारा उत्तराखंड का गौरव था ,उनका नेतृत्व में भारत ने पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक किया। राहुल गांधी क्या बोला प्रूफ देओ प्रमाण देओ। रे भाई आप कौनसे पिता का बेटा हो कभी हमने प्रूफ मांगा है क्या। "

ये वह बयान है जो असम के मुख्यमंत्री हिमंता  बिस्वा  सरमा  ने उत्तराखंड की एक रैली में दिया। कुछ समय के लिए ये भूल जाएं कि हिमंता किस दल के हैं और फिर विचार करें कि यह बयान किस कदर स्त्री विरोधी ,समाज विरोधी और भारतीय संस्कृति विरोधी है। मुख्यमंत्री का यह बयान उत्तेजना में निकल आए शब्द भर नहीं है बल्कि उत्तराखंड के जनरल रावत के नाम पर पहले भावनात्मक माहौल बनाने  और फिर अपने विरोधी राहुल को गाली देने से जड़े हैं  ताकि जनता अपने लाड़ले सपूत के अपमान पर राहुल गांधी के विरोध में आ जाए और यह विरोध फिर वोट में तब्दील हो जाए। बेशक चुनाव के माहौल में पक्ष विपक्ष एक दूसरे पर टीका टिप्पणी करते हैं लेकिन किसी  मां का यूं अपमान दलों की हताशा और स्टार प्रचारकों की  मानसिकता का ही सबूत देता है। 

स्त्री को अपमानित करने के प्रयास भारतीय राजनीति में नए नहीं हैं। एक और पूर्व मुख्यमंत्री ने सुनंदा पुष्कर को हिमाचल की चुनावी रैली में पचास  करोड़ की गर्ल फ्रेंड कहा था। हम यह जानते ही  हैं और यह भी कि  मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मंदसौर की सांसद मीनाक्षी नटराजन को सौ टंच माल कहा था। उन्होंने भले ही सफाई दी हो कि उनका इरादा खरेपन और साफ छवि वाली कहने का था, लेकिन मध्यप्रदेश, यूपी, बिहार में सब जानते हैं कि यह किन संदर्भों में इस्तेमाल किया जाता है।  'टंच माल' टिप्पणी  है जो कतई किसी स्त्री की कार्यकुशलता को पूरे अंक देने के लिए नहीं दी जाती । इन दलों के नेता आपसी बैठकों में लाख कह लें कि बयानबाजी बहुत सोच समझकर की जानी चाहिए लेकिन जब वरिष्ठ नेताओं की  ज़ुबां  ही सार्वजनिक मंचों पर अब फिसलती नहीं है बल्कि सोच समझकर कही जाती हैं 

त्रेता युग में माता सीता भी कहां इस अपमान से बच सकीं लेकिन आज


तक वह चरित्र हिकारत से ही देखा जाता है। सीता जो अपने तप  के बल पर रावण से मुकाबला कर पाईं, एक बयान के आधार पर अग्निपरीक्षा की भागी बनी। सियासत और सिंहासन अक्सर  स्त्री के अपमान का कारण बनता  है लेकिन समाज इसे नहीं स्वीकारता । द्वापर युग में द्रौपदी कौरवों द्वारा अपमानित हुई। भरी सभा में चीरहरण के कुत्सित प्रयास और सिंहासन पर बने रहने की लालसा को महाभारत ग्रन्थ में बहुत बेहतर व्यक्त किया  गया है। वह दृश्य हर पाठक के रोंगटे खड़े करता है फिर कौरवों के प्रति नफरत से भर देता है और यह नफरत कौरवों को अंत की ओर जाते  हुए ही देखना चाहती हैं। 

मुख्यमंत्री का यह बयान अब भी वहीं का वहीं हैं। उदासीनता और पतन का ये हाल है कि कोई भी उन्हें इस बयान पर खेद व्यक्त करने के लिए बाध्य नहीं कर पाया है । असम के कांग्रेस पदाधिकारी पुलिस के पास एफआईआर दर्ज़ कराने गए जिसे नहीं लिया गया। हैदराबाद में ज़रूर तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमिटी की शिकायत दर्ज की गई हैं। असम मख्यमंत्री के खिलाफ धारा 504 और 505के तहत मुकदमा कायम किया आया है। तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रेशखर राव ने कहा है -" पार्टी का एक सीएम तुम किस बाप के पैदा हुए ऐसा बोल सकते हैं क्या ?ये हमारा संस्कार है ? हिन्दू धर्म को बेच के उसके नाम पर वोट कमाने वाले आप लोग गंदे लोग हो। मैं भाजपा अध्यक्ष नड्डा जी से पूछ रहा हूं क्या यह हमारे संस्कार हैं ?अगर आप ईमानदार हैं ,धर्म को निभाने वाले हैं तो बर्खास्त करो असम चीफ मिनिस्टर को। क्या एक चीफ मिनिस्टर ऐसा बात कर सकता है इस देश में ?सहनशीलता की भी एक सीमा होती है। "

हाल ही मैं दक्षिण की एक फिल्म पुष्पा जबरद्दस्त हिट रही है। पुष्पा अपनी  मां का लड़ला बेटा है लेकिन दूसरा पक्ष उसे नाजायज ही पुकारता है। पुष्पा इस का बदला जिस तरह फूल की बजाय फायर बन के लेता  है उसे दर्शकों ने खूब पसंद किया। समाज के बड़े हिस्से को  मां को यूं अपमानित करना सर्वाधिक नापसंद है। जाहिर है नेता अपनी हदें भूल रहे हैं लेकिन समाज अपनी मर्यादा जनता है और उसकी निगाह में मां का दर्जा बहुत ऊंचा है। भले असम के मुख्यमंत्री को अपने बड़े नेताओं से फटकार या आलोचना न मिली हो आम इंसान इस भाषा को अपमान की श्रेणी में ही रखेगा। बेहद घृणित कि हमने कभी पूछा कि आप कौनसे पिता का बेटा हो। चुनाव आते -जाते रहेंगे लेकिन यह बयान बर्छी की तरह ही चलता है। पिछले कई बयानों का पछाड़ता हुआ जो उनके पूर्ववर्ती नेताओं ने दिए हैं। 


 

शनिवार, 12 फ़रवरी 2022

पर्दा बुर्का हिजाब और घूंघट

एक पंक्ति पर बात खत्म हो सकती है कि किसी भी तरह का पर्दा बुरका हिजाब घूंघट इंसानियत के नाम पर कलंक है और इस कलंक धो दिया जाना चाहिए। वैसे ही तीन तलाकऔर बिना किसी तलाक के पत्नी को छोड़ देना भी कलंक ही है।

मेरे साथ जयपुर के दफ्तर में एक महिला पत्रकार साथी काम किया करती थी। एक दिन मैंने देखा कि रास्ते में मेरे आगे बुर्का पहने एक स्त्री दुपहिया पर सवार है। यह वही होनहार साथी थी। दफ्तर पहुंचते ही मैंने थोड़ी सख्त आवाज में कहा -कमाल है तुम बुरका पहनती हो,मुझे लगा था यह लड़ाई तो तुम बहुत पहले खुद से और फिर बाकियों से भी जीत चुकी होगी लेकिन मैं गलत  थी। उसने शांत स्वर में जवाब दिया -"यह मुझे भी पसंद नहीं लेकिन मुझे अपना काम बहुत पसंद है।  बहुत संभव है कि अगर मैं इसे ना पहनूं तो परिवार में कुछ बातें हों।  मेरे बुजुर्ग ससुर को इससे खुशी मिलती है तो मुझे इसमें दिक्कत नहीं है। मुझे परिवार भी चाहिए। एक क्षण लगेगा बुर्का  उतार फेंकने में लेकिन मैं थोड़ा समय लुंगी, उन्हें अपने हक़ में करने के लिए।" इस बात को लगभग सात आठ साल बीत चुके हैं और आज वह पत्रकार लेखन की दुनिया में सक्रिय और पहचाना नाम है। बुर्का  वह अब नहीं पहनती और अपनी तस्वीरों को नुमाया करने  से उसे कोई गुरेज भी नहीं है। 

क्या कोई समाज महिलाओं की तकलीफ को इस नज़रिये से देखने में  यकीन रखता है। पहले शिक्षा और फिर काम करने की जगहों पर वे कितनी मुश्किल राहें तय कर पहुंची हैं ? समाज शायद रखता भी है लेकिन  राजनीतिक दलों और गोदी मीडिया में तो यह सलाहियत बिल्कुल भी नहीं। इतना धैर्य रख लिया तो वोटों की कटती हुई फसल कहीं और निकल जाएगी। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा लगाना आसान है उसकी तकलीफों को बैठकर समझना दूसरी बात जिसमें किसी की कोई दिलचस्पी नहीं। कौन भूल सकता है जब जयपुर की लड़कियों को पढ़ाने के लिए पूर्व महारानी गायत्री देवी ने स्कूल खोला था तब परदे वाली बस ही लड़कियों को लाती और ले जाती थी। स्कूल परिसर की दीवारें इतनी ऊंची कि परिंदों की निगाह भी मुश्किल से जा पाएं। साहित्यकार मनीषा कुलश्रेष्ठ कहती हैं - "मैं पर्दा, घूंघट और हिजाब तीनों का साथ नहीं दे पाती लेकिन निजी स्वंत्रता की हामी हूं। सर ढकने और  हिजाब के लिए फिर भी जजमेंटल नहीं। मुझे एक प्रोफेसर साहब की बात याद आती है। कैसे कैसे हालात में लड़कियां पढ़ने निकलती है तो पढ़ने दो न। उन पर ड्रेसकोड मत लागू करो। जीन्स पहने तो भी,हिजाब पहने तो भी । साड़ी  पहने  माथा ढकें ,सिंदूर लगाएं तब भी। क्या फायदा आपकी हठ के चलते वे पढ़ने से ही वंचित हो जाएं।"  

बात ज़रूरी है क्योंकि अगर धार्मिक पहचान चिन्हों को ही हटाने का आधार माना  जाए तो फिर हम तो वे नागरिक हैं जो जीते ही इसी तरह हैं। सबके अपने अपने पहचान चिन्ह हैं जो वे धारण करते हुए चलते हैं। वे किसी भी पद पर कोई भी हो सकते हैं। यह तटस्थता कैसे  हासिल की जाएगी ?यह रोक और दबाव का सिलसिला कहां जाकर थमेगा ?शिक्षा के मंदिर में ऐसा दृश्य कि एक तरफ कैसरिया पगड़ी और शॉल दी जा रही हो और दूसरी तरफ लड़कियां बुर्का और हिजाब पहने आमने-सामने हो। एक नागरिक होने के नाते खुद पर शर्म सी आने लगती है। आखिर किसे मज़ा आता है इन दृश्यों में? किसकी सोच में यह मंज़र फिट बैठता है ? क्या कोई सोच भी सकता है कि बुर्का पहनी लड़कियों को यूं  दूसरे  रंग से सामना कराया जाएगा ? यह दृश्य दुःखद है।  दो कॉलेजों की तकलीफदेह कहानी है कि एक को कोई एतराज नहीं लड़कियां कुछ भी पहने जबकि दूसरे ने इस पर प्रतिबंध लगाया। मुस्कान जिसकी तस्वीर लगातार देखी जा रही है वह कर्नाटक  के मांड्या  स्थित कॉलेज की सेकंड ईयर बीकॉम की छात्रा है। उसकी साथी छात्राओं को कॉलेज में दाखिल होने से रोका गया तो उसने फिर खुद को पूरे आत्मविश्वास से रखा जिसकी सोशल मीडिया पर भूरी भूरी प्रशंसा भी हो रही है। वह साफ़ कहती है कि हम इसी तरह कॉलेज आते रहे हैं हमारे कॉलेज प्रशासन और  प्रिंसिपल ने यह अनुमति हमें दी है । यह बाहर से आए लोग हम पर दबाव  हैं। मैं उनकी क्यों सुनूं ? मेरे साथ सभी छात्राएं हैं लेकिन मेरी मां अब डरने लगी है। 

लिपस्टिक अंडर माय बुर्का एक फिल्म अलंकृता श्रीवास्तव ने बनाई  थी जिसमें चार महिलाएं अपनी सड़ी गली ज़िन्दगी को बदल देना चाहती हैं। आवाज़ लड़कियों की ही होगी, किसी दबाव की नहीं या फिर तीन तलाक की तरह इसे भी कानून के दायरे में लिया जाए। दूसरे पक्ष को प्रभावित कर सके उतने वोट बुर्के के जरिये नहीं मिलेंगे। वोट लेने के लिए आपकी प्रयोगशालाओं को प्रयोगधर्मी और प्रगतिशील होना पड़ेगा। सब जानते हैं कि किसी भी इंसान को सिर से पांव तक वह लिबास कैसे बर्दाश्त होगा जो उसे हवा पानी से महरूम करता हो। यह न्याय नहीं है।घूंघट भी ऐसी ही चेष्टा करता हुआ प्रयास है। राजस्थान से कोलायत की एक प्रतिष्ठित परिवार की बहू ने विधायकी का परचा घूंघट के साथ भरा तो लिखकर ,बोलकर कहा गया कि कैसे इनसे उम्मीद की जाए कि इनके मतदाता इनसे संवाद कर पाएंगे ?ऐसे ही ये खाइयां पाटी जा सकती हैं। सस्ते हथकंडो से चर्चा हो जाएगी गंभीर बहस नहीं होगी। बदलाव की बयार नहीं बहेगी। लड़कियां बोले। फैज़ अहमद फैज़ तो बहुत पहले बोल चुके हैं बोल कि अब आजाद हैं तेरे बोल जुबां अब तेरी है