मंगलवार, 20 जुलाई 2021

दो जासूस करें महसूस कि दुनिया बड़ी खराब है

 लाख छुपाओ छुप न सकेगा राज हो कितना गहरा ... दिल की बात बता देता है असली नकली चेहरा.. हिंदी फिल्म असली नकली के लिए हसरत जयपुरी साहब का लिखा  यह गीत जासूसी कांड पर मौजूं है। चेहरे आप सत्ता पक्ष के देख लीजिये,फक्क पड़े हैं  और शेष आबादी का चेहरा तो अब फ़ोन ही हो गया है उसे भांपने के लिए फोन हैकिंग करा लीजिये। क्रोनोलॉजी समझिये । पहले एक्टिविस्टों, पत्रकारों के कंप्यूटर की हैकिंग,उन पर देशद्रोह के मुकदमें और अब पैगसस का प्रोजेक्ट जासूसी। किसको रुचि हो सकती है इस जासूसी में ?किसे अपने खिलाफ उठी हर आवाज नागवार है?किसने अपना काम करते हुए पत्रकारों को जेल में डाला है। केरल के सिद्दीक कप्पन ,हरियाणा के मनदीप पूनिया और मणिपुर के पत्रकार की सामान्य ख़बरों पर किसे मिर्च लग रही थी  ? क्रोनोलॉजी तो जनता को समझनी है कि इन सबसे देश को दुनिया में कौन बदनाम कर रहा है। हर बात में विदेशी साजिश का हवाला अब न्यू नॉर्मल है। क्या परेशानी है जो इस जासूसी की परतें मानसून सत्र से पहले खुलीं? दूध और पानी का फर्क हो ही जाएगा।कोई क्यों डरता है यहां बात करने से? 

असहमति की आवाज दबाना भी अब न्यू नॉर्मल बनता जा रहा है।मानव अधिकार कार्यकर्ता फादर स्टैन स्वामी का कम्प्यूटर किसने हैक किया ? एक बीमार बुजुर्ग से कौन खौफ खा रहा था ? आखिर क्यों वे ज़मानत के इंतज़ार में मौत की नींद सो गए ? किसान आंदोलन में जब  मनदीप पुनिया ने फेसबुक लाइव किया कि दिल्ली  बॉर्डर पर विरोध करनेवाले स्थानीय लोग नहीं बल्कि पार्टी के कार्यकर्ता हैं तो किसे तकलीफ होनी थी ,किसके कहने पर दिल्ली पुलिस ने यह गिरफ्तारी की थी  ? क्रोनोलॉजी समझनी ही होगी कि अपने खिलाफ उठी हर आवाज़ का गला कौन घोंट देना चाहता है? ग्रीक पुराण में पैगसस एक पवित्र सफेद घोड़े की परिकल्पना है लेकिन यहाँ बहुत कुछ काला और अपवित्र है। स्वतंत्र आवाज को दबाने की चेष्टा और  लोकतंत्र को कमज़ोर करने की साजिश का पर्दाफाश जरूरी है। सर्वशक्तिमान को इतनी ओछी हरकत शोभा नहीं देती है। यह गरल उगलने जैसा है। उगलने जैसा क्योंकि रक्षा में विष का प्रयोग हो सकता है, सांप भी करता है। 



एक हिंदी फिल्म दो जासूस के नाम से भी बनी है। उसमें भी एक गाना है दो जासूस करें महसूस कि दुनिया बड़ी खराब है...