शनिवार, 24 अप्रैल 2021

मौत का एक दिन मुअय्यन है नींद क्यों रात भर नहीं आती

मौत  का एक दिन मुअय्यन  है 
नींद क्यों रात भर नहीं आती  

चचा ग़ालिब इस शेर को भले ही दो सदी पहले लिख गए हों लेकिन आज यह हर हिन्दुस्तानी का हाल हो गया है। डर का साया उसके दिल ओ दिमाग पर खुद गया है।इस हाल में उसे कोई उम्मीद तसल्ली के दो शब्द कहीं नज़र नहीं आते। हमने अपने ध्येय वाक्य 'प्राणी मात्र पर दया' से भी मुँह मोड़ लिया है और आज प्राणवायु के लिए ठोकरे खा रहे हैं। इस बुरे वक्त में प्राण निकल भी  रहे हैं तो भी तसल्ली कहाँ है। दो गज  जमीन का भी संकट है और बैकुंठ जाने के लिए लकड़ी भी रास्ता रोक रही है। श्मशान घाट और
 कब्रिस्तान दोनों एक ही कहानी कह  रहे हैं। ऐसे में इंसान के कोमल मन पर रुई के फाहे रखे कौन ? हम सब जानते हैं कौन ,उम्मीद भी बहुत रखी लेकिन अब सिर्फ और सिर्फ हमें करना होगा। किसी से उम्मीद न रखते हुए हमारी प्राचीन विरासत और संस्कारों के हवाले से। 
हमें बिना किसी अपेक्षा के बस मदद के हाथ बढ़ाने होंगे। मानव सभ्यता पर ऐसा संकट अभूतपूर्व है। आज़ाद भारत के लिए तो और भी नया क्योंकि  इंसान-इंसान के बीच दूरी को ही जीवन रक्षक कहना पड़ रहा है । इस अजीब समय में हम सब नए नहीं हैं, पिछला साल भी ऐसा ही था।  फिर भी अब मदद के भाव को केंद्र में रखना ही होगा। किसी अपने और किसी भी हेल्थ  वर्कर की बेरुखी वक्त से पहले प्राण लेने के लिए काफी होगी। जो सबसे नेक काम होगा वह डर को कम करने का। सूचना के तमाम माध्यम जाने किस हक़ से डर फैलाए जा रहे हैं। जो डर गया वो मर गया समझाने वाले अब चीखते फिर रहे हैं कि डरो और डरो। बेशक शेर के आने का डर है लेकिन उससे पहले ही चीख देना बहुत के दिल डूबने का सामान बन रहा है। इतना  डर फैलाने का कोई लाइसेंस इन माध्यमों के पास नहीं लेकिन फिर भी लगे  हुए हैं डराने में।  पिछले लॉकडाउन में तो फिर भी हिमालय के पहाड़ दिखा रहे थे ,चिड़ियाएं चहका रहे थे ,मम्मी की रसोई महका रहे थे ,इस बार होश गुम है। डराने में सब खर्च हो रहा है। इनके पास साबित करने का कोई पैमाने नहीं कि हमारे डराने ने इतनी जानें बचा ली। 

इज़राइल जैसा छोटा सा देश 65 फीसदी टीकाकरण तक पहुँचने वाला है। टीकाकरण से पहले ताइवान ,न्यूजीलैंड, वियतनाम जैसे छोटे मुल्कों  संक्रमितों को पूरी तरह ठीक होने तक ट्रैक किया। वे आज कोविड से मुकाबले में आगे हैं। पिछले साल हमसे बुरे हाल वाले देशों ने अपने संसाधनों को और बेहतर किया और वो आज हमसे बेहतर हालात में हैं। हमारे यहां राज्य-केंद्र उलझ रहे हैं। मानव त्रासदी के इस दौर में यूं उलझना कितनी छोटी सोच का प्रतीक बन रहा है। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ऑक्सीजेंकी उपलब्धता पर टकरा जाते हैं।वे दिल्ली के लिए ऑक्सीजन मांग रहे हैं और पीएम प्रोटोकॉल याद दिला रहे हैं। Cm ne मौके का फायदा उठाया तो पीएम भी देश को लाइव और बड़ा संदेश दे सकते थे प्राणवायु के बारे में बोलकर।
बहरहाल जिस भारतीय विरासत से मदद सहायता यहां तक की पूरी दुनिया की मदद का दर्शन आता हो वहां इतना संकट ,अच्छा संकेत नहीं है। सोमवार को  टीवी पर एक बड़े डॉक्टर कह रहे थे कि हम दिन रात एक करते हुए थक चुके हैं। वाकई मरीज़ों का यह दबाव अभूतपूर्व है लेकिन क्या एक साल में ऐसे प्रयास नहीं होने चाहिए थे कि वॉलन्टियर्स की नई कतार खड़ी की जाए। ऐसे बहुत से युवा देश में हैं जो देश को अपनी सेवाएं देना चाहते
 हैं। जब पहली वैक्सीन के ट्रायल्स के लिए युवा आगे आ सकते हैं तो यहाँ क्यों नहीं। बेशक सोच और नेतृत्व  की कमी  नज़र आती है। चुनाव जीतने की मशीन बन चुके राजनीतिक दलों से बड़ी उम्मीद अब भी ना रखते हुए हम कितना योगदान इस दौर में दे सकते हैं यह बड़ा फ़र्ज़ होगा। बिच्छू काटने की ही प्रवृत्ति रखता है लेकिन साधु अपने प्रवृत्ति  से नहीं डिगता, वह तब तक काटते हुए बिच्छू को  हटाता है जब तक उसका साहस है। जीत साधु की ही होती है। दलाई लामा की इस बात में कितनी सच्चाई है 

'दुनिया  का अस्तित्व इन नेताओं से नहीं दुनिया का अस्तित्व मानवता से है '

इस मानवता के झंडाबरदार हम हैं। हम जीतेंगे इस लड़ाई को मदद के हाथ बढ़ाकर।जहां भी जिस रूप में
 हैं, वहां से। हमारी आत्मिक शांति में खलल डालने का हक हमें किसी को नहीं देना है। खुद पर भरोसा करना है। जो आज तक हमारा वजूद बना रहा है वह किसी राजे -रजवाड़े या सरकार की वजह से नहीं रहा है ,यह रहा है हमारे पुरखों के दमखम से। उनके अर्जित ज्ञान से। खुद को बुलंद करना समय की मांग है। 













कोई टिप्पणी नहीं: