गुरुवार, 16 अगस्त 2018

वे क़द्दावर नेता और मैं शिशु पत्रकार

रार  नई ठानूंगा atal bihari vajpayee:1924-2018
वे  कद्दावर नेता और मैं शिशु पत्रकार। अटलजी से मई 1996 में गांधीनगर गुजरात में हुई मुलाक़ात का यही सार है। तब मैं दैनिक भास्कर इंदौर में रिपोर्टर थी। अख़बार ने अपने चुनिंदा रिपोर्टर्स को 1996 के लोकसभा चुनाव कवरेज  के लिए देश के कौने-कौने में भेजा था। मुझे गुजरात की ज़िम्मेदारी दी  गई । चूंकि मेरा ननिहाल गुजरात  में था और छुट्टियों का बड़ा हिस्सा बिलिमोरा ,गणदेवी में बीतने से गुजराती भाषा पढ़नी और कुछ हद तक बोलनी भी आ गई थी।  संयोग ऐसा बना कि इस यात्रा में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री सुरेशभाई मेहता ,केशु भाई पटेल , बाग़ी नेता शंकर सिंह वाघेला, गुजरात प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  सब से  मुलाकात होती चली गई। सुरेशभाई मेहता तो बिलिमोरा ही आए हुए थे। अटलजी से मुलाक़ात तो जैसे एक रिपोर्टर का ख़्वाब पूरा होने  जैसी थी और वहीं  देश के वर्तमान प्रधानमंत्री से भी मिलना हुआ था।

बहरहाल वह गांधीनगर का सर्किट हाउस था जहाँ अटल बिहारी वाजपेई साहब से मिलना था। सुबह का वक़्त   था। धड़कने हाथ से ज़ाहिर हो रही थीं। क़लम और क़ाग़ज़ जुड़ नहीं रहे थे। सर्किट हाउस साफ़ -सुथरा और भव्य था । अटलजी के कमरे के सामने पहुंचे तो एक शख़्स जिनके आधी आस्तीन के कुर्ते के सीने में हीरे जड़ित कमल चमचमा रहा था, उन्होंने विनम्रता से पूछा आप कौन और कहाँ से  आईं हैं। परिचय के बाद उनका यह भी आग्रह था यूं इन्तज़ार में बैठे मत रहिये अपना मकसद बताइये और भीतर जाइये। दस्तक देने पर मुझ से पूछा गया कि आप इंटरव्यू के लिए आईं हैं तो सवालों की सूची दीजिये। सवाल जो भी ज़ेहन में थे जल्दी-जल्दी काग़ज़ पर उतारे और भेज दिए। तब तक हीरे जड़ित कुर्ते वाले शख़्स वहीं थे और उनका भाव मदद का ही था। तब दैनिक भास्कर को बहुत काम लोग जानते थे।  इंदौर से जिस अख़बार का नाम बुलंद था वह नईदुनिया था लेकिन बड़ी बात यह थी भास्कर ने अपने नए और छोटे पत्रकार  पर बड़ा भरोसा किया था।  थोड़ी देर बाद भीतर से जवाब आया कि वक़्त कम है आप अटलजी से चलते-चलते सवाल कर सकती हैं। मैंने राजनीतिक हालत पर अपनी समझ के मुताबिक चार-पांच सवाल किये जो भास्कर में प्रमुखता से प्रकाशित हुए। कन्फेस करना चाहूंगी कि एक दो बचकाने सवाल भी थे। उन्हें मैंने नहीं लिखा। बातचीत में उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोई सवाल बाकी हो तो शाम को अहमदाबाद की प्रेस कांफ्रेंस में किया जा सकता है।

अटलजी का विराट व्यक्तित्व दिल पर असर कर गया। उन्होंने कहीं भी यह असर नहीं लेने दिया कि मैं नई पत्रकार हूँ और वे कद्दावर नेता। उनकी आवाज़ की गहराई का  असर अब भी गहरे तक है। शब्दों का चयन ही तो उन्हें कवि भी बनाता है। मुझे फ़ख्र है कि भारतीय राजनीति की इस बड़ी शख्सियत से मेरी भी एक मुलाक़ात है। विपक्ष में होने के बावजूद जिन्हे पहले प्रधानमंत्री नेहरू ने सराहा और खुद अटलजी जिन्होंने बांग्लादेश के निर्माण के बाद इंदिरा गांधी को दुर्गा कहा। पक्ष के बीच ऐसा विपक्ष आज रुख़सत हो गया। एक बेहतर युग का अवसान है ये। अलविदा अटलजी। अटल कवि मन वाले वाजपेयी जी को शत-शत नमन।






5 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

Jitna shandaar vyaktitva atal ji ka utna hi shanddar varnan aapki mulakaat ka

Unknown ने कहा…

Vaakai khushkismat hain aap..

Unknown ने कहा…

Nice

Unknown ने कहा…

Nice

railwayrecruitment ने कहा…

RPF Admit Card will be issued to all the candidates who have registered themselves for the Railway Protection Force Constables and SI Recruitment. The Exams is expected to be held in September 2018. The RPF Exam will be conducted by the Railway Recruitment Board. The RPF Admit Card will be available online on its official website of RPF. Click Here to know more.