Monday, December 11, 2017

हार


इस चुनाव में कोई जीते 
पद की गरिमा हारी है 
ज़ुबां से सादगी हारी है
शक से यकीन हारा है
शोर से शाइस्तगी हारी है
नासहों से इबादत हारी है
बहस से रिश्ते हारे हैं 
दग़ाबाज़ी से यकीन हारा है
नफ़रत से मोहब्बत हारी है
बेहयाई से तहज़ीब  हारी है

फिर भी मैंने नहीं टांगा है 
अपने भरोसे को खूंटी पर  
मैं अपने इस लिखे से हारना  
चाहती हूँ ....

वर्षा-शाहिद

नासहों - उपदेशकों

No comments: