Tuesday, June 7, 2016

मैं और तुम



दरख़्त 
था एक दरख़्त
हरा
घना
छायादार
इस क़दर मौजूद
कि अब ग़ैरमौजूद है
फिर भी लगता है जैसे
उसी का साया है
उन्हीं पंछियों का कलरव है
और वही पक्का हरापन है
सेहरा ऐसे ही एहसासों में
जीता है सदियों तक
और एक दिन मुस्कुराते हुए
हो जाता है
समंदर

ख़ुशबू 

मैंने चाहा था ख़ुशबू को मुट्ठी में कैद करना
ऐसा कब होना था
वह तो सबकी थी
उड़ गयी
मेरी मुट्ठी में रह गया वह लम्स 
उसकी लर्ज़िश
और खूबसूरत एहसास
काफ़ी है एक उम्र के लिए


याद 


यादों की सीढ़ी से
आज फिर 
एक तारीख
उतरी है मेरे भीतर... 
तुम जान भी पाओगे जाना
कि बाद तुम्हारे
मैं कितनी बार गुजर जाती हूँ
इन तारीखों से गुजरते हुए।

No comments: