Thursday, June 28, 2012

मुलाकात प्रेम शिकवा

शिकवा 



मैंने देखा आज सूरज को 
बड़ी तसल्ली और करार से 
ओझल होता है 
पहाड़ नहीं हैं 
मेरे घर के आस-पास 
बिजली घर के पीछे ही चला गया 
कल फिर आने के लिए
और तुम?
यूं ही
अकस्मात्
अनायास
अचानक
कहाँ चले
गए मेरे यार
जाने कहाँ
उदय होने के लिए ?
नहीं सोचा इस हरेपन को
तुम्हारी ही रश्मियों की आदत है


***


 

मुलाक़ात


तुम्हें याद करते हुए
जब घिर आई
आँखों में नमी
खुद से कहा
जाओ मेरी रूह
मुलाकात का वक़्त
ख़त्म हुआ |


***







प्रेम 


ऐ शुक्र तेरा शुक्रिया
कि आज तमतमाए सूरज पर
तुम किसी
खूबसूरत तिल
की तरह मौजूद थे.
क्या हुआ...
सुबह ठंडी थी
और परिंदे हैरान
प्रेम यूं भी लाता है
खुशियों के पैगाम
सौ साल में एक बार.


*** 

Wednesday, June 20, 2012

चरित्र पर फैसला सुनाना हम अपना फर्ज समझते हैं


मर्यादा पुरुषोत्तम राम ने भी सीता को अग्नि में समर्पित कर आत्मसम्मान  की रक्षा की थी हमारे समाज में यह आज भी बुरा नहीं है।
चरित्रहीनता पर फैसला सुनाना हम अपना फर्ज समझते हैं।
ओगड़सिंह तो बेटी का सर काटकर ही  थाने ले  गया

जयवंती और राजेश की आंखों में बेटी
की विदाई की नमी के साथ-साथ
चमक भी थी। अपने हिसाब से अपनी
बेटी को ब्याह देने की चमक। उनकी
बातों से झलक रहा था कि वे उनके
संस्कार ही थे जो बेटी कहीं 'भटकी'
नहीं। करीब के रिश्तेदार भी उन्हें
कहने से नहीं चूक रहे थे कि वाह,
जयवंती तूने तो गंगा नहा ली। वरना
आजकल के बच्चे मां-बाप को नाकों
चने चबवा देते हैं। ये निर्मला को ही
देख इसकी बेटी ने क्या  कम तांडव
किए थे। तू तो बहुत भाग्यशाली है।
दरअसल निर्मला की बेटी ने मां-बाप
के तय रिश्ते से इनकार कर दिया था।
नहीं मानने पर खाना-पीना छोड़, वह
उदास बंद कमरों में अपने दिन बिताने
लगी थी, लेकिन एक दिन मां-बाप की
धमकी ने उसे डरा दिया, 'अगर तू
यही सब करेगी तो हम जहर खा लेंगे।
मत भूल की तेरी एक छोटी बहन भी
है। उस दिन वह बेटी बहुत डर गई
थी। खुद पर कष्ट तो वह बरदाश्त कर
सकती थी। माता-पिता का यह हाल
उससे नहीं देखा गया। अपने फैसले
को तिरोहित कर समर्पण की बयार में
बह गई। निर्मला बेटी की अपराधी थीं।
नाजुक मौकों पर अक्सर  वे उसके
साथ गले मिलकर रो पड़ती थीं।
जयवंती को मिल रही शाबाशी
का सिलसिला थमता ही नहीं था।
उसकी मिसालें दे-देकर रिश्तेदार भी
अपने बच्चों की नकेल कसने में लगे
थे। शादी की फिक्र को फक्र में बदलने
के प्रयास जारी रहते। बेटी कहीं लिह्रश्वत
हैं, ये उन्हें बरदाश्त नहीं। जब उन्हें
यही बरदाश्त नहीं तो फिर ससुराल से
घर आकर बैठी बेटी का किसी और से
मेल-जोल कैसे बरदाश्त होता। काट
दिया उसका सिर एक खरबूजे की
तरह। एक बेटी को इस तरह काट
दिया पिता ने। यकीन मानिए हाथ
कांपते हैं ऐसा लिखते हुए। बेटी कुर्बान
हो गई अपने बाप के झूठे अहम और
जिद के आगे। कोख में मारते हो,
गलती से पैदा हो गई तो न पढ़ातेलि
खाते हो और ना ठीक से खाने को
देते हो। भेड़-बकरी समझ शहनाई
बजाकर अनजान जगह भेज देते हो
उसे। संपत्ति भी नहीं देते, दहेज देते
हो। कैसा संतान प्रेम है ये, जहां कुछ
भी उसके हित में नहीं।
राजसमंद जिले के चारभुजा क्षेत्र
में अपने बाप के हाथों कत्ल हुई इस
लड़की मंजू का गुनाह चाहे जो हो,
लेकिन उसके बाप को उसके चरित्र
पर शक था। वह घर से गायब थी।
पुलिस ने उसे बरामद किया। यही
बताया कि एक होटल में किसी के
साथ मिली है। बस पिता का गुस्से से
सिर फिर गया और मंजू को बाप की
तलवार से कटना पड़ा।
हम में से कई लोग हैं जो इन
घटनाओं को सही ठहराते हैं। उन्हें
लगता है कि स्त्री की पवित्रता पर
अगर किसी ने हमला किया तो स्त्री
को भी दोषी मानते हुए सजा दो। यह
उसका शरीर है, उसकी आत्मा निर्णय
लेगी ऐसा कोई नहीं सोच पाता। आप
यों मालिक बन रहे हैं एक बालिग
लड़की के। आपके मन का नहीं होता
तो मार रहे हैं उसे। आपके सामाजिक
मानदंडों पर खरी नहीं उतरती तो
कत्ल कर दो उसे।
कई बार खयाल आता है कि हम
दानव युग में जी रहे हैं। बेकार है
विकास की बड़ी-बड़ी बातें करना।
देश को ऐसी कई पंचवर्षीय योजनाएं
बनानी होंगी जिसके तहत स्त्री-पुरुष
को समान नागरिक अधिकार मिल
सकें। संविधान में लिखी बातें कोरी
बातें हैं समाज अब भी अवयस्क है।
दोष न लड़की का है और न
ओगड़सिंह का। ससुराल से मायके
आकर बैठी, बेटी के बारे में वह पहले
बहुत कुछ सुन चुका होगा। लोगों को
अपनी आन का सबूत देते हुए उसने
अपनी बेटी का ही सर कलम कर
दिया। ऐसा उसने अपने सम्मान के
लिए किया। यह सम्मान अक्षुण्ण
रखने के लिए की गई हत्या थी। यही
'ऑनर किलिंग है।
मर्यादा पुरुषोत्तम राम ने भी
सीता को अग्नि में समर्पित कर आत्मसम्मान  की रक्षा की थी
हमारे समाज
में यह आज भी बुरा नहीं है।
चरित्रहीनता पर फैसला सुनाना हम
अपना फर्ज समझते हैं। ओगड़सिंह
आदतन अपराधी नहीं था, वरना वह
बेटी का सिर लेकर थाने नहीं जाता।
जब तक संबंध, प्रेम, ससुराल से घर
वापसी को समाज अभिशाप मानेगा
तब तक बेटियां कत्ल होने के लिए
अभिशप्त  रहेंगी। समाज दोषी है और
दोषी हैं समाज की इस सोच को सर-माथे
लेने वाले लोग। जिंदगी बड़ी है
या झूठे कायदे? 

क्या फर्क पड़ जाता जो जी लेती बेटी अपनी जि़न्दगी
तुम कटघरे में और वह कब्र में यह तो कोई इन्साफ़  नहीं 

Tuesday, June 5, 2012

आत्मालाप


अभी तो बहुत कुछ कहना-सुनना बाकी था 
क्यों तुमने बीच रास्ते ही जहाज डुबो दिए

ढल ही जाती एक रोज़ ये गहरी काली शब् 
क्यों तुमने सुन्दर
उम्मीद के पंख क़तर दिए
 

मिल ही जाता हमें हमारे हिस्से का आसमां
तुमने क्यों अब्र के हवाले उजाले कर दिए

क्या मैं ही वक़्त से हारने लगी थीं मेरी जां
ज़ख्म क्यों फिर आज अपने हरे कर दिए

नहीं कह पाती खुद से कि यह उसकी रज़ा थी
मैंने देखें हैं तूफ़ानी हवाओं में जलते हुए दीए

एक-दूजे पर था जब चन्दन-पानी सा यकीं

फिर किसने ये रास्ते हमारे जुदा कर दिए


अभी तो बहुत कुछ कहना-सुनना बाकी था 
क्यों तुमने बीच रास्ते ही जहाज डुबो दिए

अब्र-बादल
शब्-रात   

Friday, June 1, 2012

आगत का गीत


सत्ताईस की वह सुबह हैरत भरी थी 
एक आँख सूखी और दूसरी गीली थी 
एक ज़िन्दगी से चमकती
 और दूसरी विदा गीत गाती हुई 
चमकती आँख ने हौले से भीगी आँख को देखा 
मानो पी जाना चाहती हो उसके भीतर की नमी 
इस बात से बेखबर 
कि फिर नमी ही उसकी मेहमां होगी.
आख़िर, ज़िन्दगी  से चमकती आँखे 
क्यों विदा गीत गाना चाहती थीं 

वह चौंक गयी ख्व़ाब से 
...और देखा कि उसकी तो दोनों ही आँखें 
एक ही गीत गा रही हैं 
गत का गीत ....