Friday, July 1, 2011

जीना नहीं आएगा

 इसमें न कविता की लय है न ग़ज़ल का सलीका ...एक असर है जो बस मुखर हो जाना चाहता है . . .



तेरे बिना जीना नहीं आएगा
बिन
बरसे सावन  कैसे जाएगा
 

बेमायने है सहज होने की कल्पना
समंदर
अपना अक्स छोड़  ही जाएगा
 
 
 
ये जो सीली-सीली सी आँखें हैं मेरी
एक दिन आएगा पानी सूख जाएगा

जानते हो वह दिन क़यामत का होगा
तेरा-मेरा सिलसिला फिर जुड़ जाएगा

 

  इसे विलाप का आलाप न समझना दोस्त
आस का यह दिया अब नहीं बुझाया जाएगा

11 comments:

वाणी गीत said...

भावनाओं की अपनी अलहदा लय तुक होती है ...वाही मुखर है तो फिर क्या कविता ,क्या ग़ज़ल !

kavita said...

Beautiful expression .

manglam said...

so nice

प्रवीण पाण्डेय said...

बहते भाव।

Pratibha Katiyar said...

Wakai!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

हृदयस्पर्शी रचना! बंधन जन्म जन्मांतर का ...

प्रदीप कांत said...

ये जो सीली-सीली सी आँखें हैं मेरी
एक दिन आएगा पानी सूख जाएगा

__________________________


भाव और विचार तो है..., सलीके से कहा गया है इसलिये अच्छा लगता है

S.N SHUKLA said...

खूबसूरत पोस्ट.

Dileepraaj Nagpal said...

Shabdon Ke Roop Me Bhawnaaon Ki Es Versha Me Man Bheeg Gaya. Aap Kuch Kahen To Use Gazhal,Kavita, Nazm Aur Sher Aadi Kisi Vidha Me Bandhne Ki Zaroorat Kaya Hai...
Jai Ho Mam...

चेतना के स्वर said...

chand lafjon me chhupi aah!
kya kahun, wah! ustad wah!!

gazab ka likhdala hai deedi

varsha said...

vaniji kavita mangalamji praveenji prtibhaji anuragji pradeepji shuklaji aap sab ka shukriya
aur dileeprajji jai uski jiske liye yah panktiyaan hain aur pradeep aah par vaah ke liye thanks.