Wednesday, February 17, 2010

मिल जा कहीं समय से परे ....

तुम्हारे आते ही  भीग जाती हैं ये आंखें
इतनी शिद्दत से कोई नहीं आता मेरे पास

प्रेम ऐसा ही स्वतःस्फूर्त भाव है जो एक इंसान का दूसरे के लिए उपजता है। यह भाव इस कदर हावी होता है कि उसके सोचने समझने की ताकत छिन जाती है। यूं कहें कि वह इंसान दिल के आगे इतना मजबूर होता है कि लगता है दिमाग कहीं सात तालों में बन्द पड़ा है। ...लेकिन दुनिया तो यही मानती है कि प्रेम अंधा होता है। दरअसल प्रेम है ही आंखों को बन्द कर डूबने का जज्बा। जिसमें यह नहीं वह दुनिया की सारी चीजें कर सकता है, प्रेम नहीं।

इश्क आपको दिशा देता है। एक मार्ग। शायद वैसे ही जैसे गुरु अपने शिष्य को। ईश्वर अपने भक्त को। प्रेम में डूबा शख्स  नृत्य की मुद्रा में दिखाई देता है। स्पन्दित सा। एक धुन लगी रहती है उसे। वह खिल- सा जाता है कि कोई है जो पूरी कायनात में सबसे ज्यादा उसे चाहता है। यह चाहत उसे इतनी ताकत देती है कि वह सारी दुनिया से मुकाबला करने के लिए तैयार हो जाता है। यह जज्बा केवल और केवल मनुष्य के बीच पनपता है। किसी मशीन या जानवर ने अब तक ऐसे कोई संकेत नहीं दिए हैं। ... और सच पूछिए तो हमारे यहां इस जज्बे से निपटने के प्रयास अब भी मशीनी और कुछ हद तक जानवरों जैसे ही हैं। हमें कई बार इनका पता पुलिस से चलता है। हमारे यहां प्रेम प्रसंगों से पुलिस ही दो चार होती है। दो दिलों को समझने के सारे मामले पुलिस के सुपुर्द कर दिए जाते हैं।
ज्यादा पीछे जाने की जरूरत नहीं। कल यानी सोलह फरवरी को जयपुर के सभी अख़बार में दो ख़बरें हैं।  कैप्टन पति को छोड़ प्रेमी संग भागी और दूसरी एक हिन्दू स्त्री को बाद में पता चला कि उसका शौहर मुस्लिम है। परिजनों का आरोप है कि पहले आर्य समाज में उससे शादी की और फिर उसे धार्मिक साहित्य पढ़ने को दिया ताकि वह धर्म बदल ले। ये दोनों ही घटनाएं प्रेम खाते में पुलिस के हत्थे चढ़ीं। दरअसल, दोनों ही मामलों में हमारी सामाजिक वर्जनाएं सर उठाती नज़र आती हैं। पहले में जहां लड़की पर शादी का दबाव रहा होगा वहीं दूसरे में हिन्दू-मुस्लिम शादी को सामाजिक स्वीकृति न मिलना। लड़की का शादी के बाद धन और जेवर लेकर भागने और धर्म छिपाकर शादी करने की बात एक बड़े धोखे की ओर इशारा करती है और यही पुलिस केस बनने के लिए जरूरी है। हर प्यार तब ही रोजनामचे में एंट्री पाता है जब उस पर धोखे का लेप लगाया जाए। यह काम सदियों से होता आया है। अरेंज मैरिज को बचाने और प्रेम -विवाह को तोड़ने की कोशिश समाज के प्राथमिक कर्तव्यों में एक नज़र आती है। इस आग के दरिया में कई प्रेम जलकर भस्म हो जाते हैं और कुछ ही हंसते हुए बाहर निकलते हैं। यह दोनों की आपसी प्रतिबद्धता की जीत होती है।

फिर कहना चाहूंगी कि यह सुकून बहुत बड़ा है कि कोई है जो आपके वजूद को जरूरी मानता है। स्त्री होने के नाते कह सकती हूं कि एक स्त्री इस चाहत के दम पर पूरी उम्र गुजार सकती है। वह प्रवृत्ति और प्रकृति से ऐसी ही है. समय से परे मिलने की ख्वाहिश उसके भीतर कभी नहीं मरती.

सावित्री ले आई सत्यवान को छीनकर भगवान से...

अहिल्या सजीव हुई राम के स्पर्श से...

शंकुतला भी जी गई जंगल को दुष्यन्त की याद में ...

अर्जुन के लिए ही वरे द्रोपदी ने पांच पति...

मीरा भी समाई अपने कृष्ण में..

और सीता समा गई धरती में राम की बेरुखी पर।
क्योंकि स्त्री जानती है कि अपने प्रियतम के बिना वह सिर्फ पत्थर है। पत्थर जो केवल सतह पर ही दुनिया का असर लेता है। भीतर तो वही शून्य है जिसमें नृत्य करती हैं  वह और उसकी यादें।