Tuesday, July 7, 2009

आय लाइक करिना - वसीम अकरम




आज कुछ पुराने पन्नों से। करीब पौने तीन साल पहले [6th oct 2006] वसीम अकरम जयपुर आए थे। राजस्थान पत्रिका की सिटी मैग 141 के लिए उनसे मुलाकात करनी थी। होटल रामबाग पैलेस में वे बहुत कूल और कांफिडेंट नजर आ रहे थे । साथ ही भारत की तरक्की से प्रभावित भी। पेश है वही प्रकाशित इंटरव्यू जस का तस।

दुनिया के सबसे तेज लेफ्ट आर्म फास्ट बॉलर, गुड कमेंटेटर बट सिवियरली डायबिटिक वसीम अकरम शुक्रवार को जयपुर में थे। खेल के मैदान में जितने आक्रामक, जाती जिंदगी में उतने ही हंसमुख और मिलनसार। हर सवाल के लिए तैयार, कहीं नो कमेन्ट नहीं। क्रिकेट, पॉलिटिक्स, इंडिया, बॉलीवुड, बीमारी सबके बारे में वर्षा भम्भाणी मिर्जा की वसीम अकरम से एक्सक्लूसिव बातचीत-
कहते हैं, जिसने लाहौर नहीं देखा, वो पैदा ही नहीं हुआ। जयपुर के बारे में क्या कहेंगे?>

हां, मैं लाहौर का हूं, लेकिन जयपुर बहुत खूबसूरत है। पूरी दुनिया में रिच हेरिटेज-कल्चर के लिए जाना जाता है। जब मैचेस के लिए आते थे, तब टाइम नहीं होता था। अब देखना चाहूंगा।

आपके सामने (बातचीत रामबाग पैलेस की लॉबी में हो रही थी) एसएमएस स्टेडियम है, जहां चैंपियंस ट्राफी होने जा रही है...

मैंने देखा, बहुत शानदार तैयारी चल रही है। स्टेडियम बहुत बदल गया है। अच्छे मैचेस होंगे।
कौन जीतेगा चैंपियंस ट्राफी?

टॉप थ्री में ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका और हिन्दुस्तान-पाकिस्तान।

इंडो-पाक तीसरे पर क्यों?

होम ग्राउंड पर ज्यादा प्रेशर होता है। इसका फायदा पाकिस्तान को मिलेगा।

और वर्ल्ड कप?

वर्ल्ड कप में साउथ एशियन टीमें अच्छा खेलेंगी। विकटें हमारे हिसाब की ही होंगी।
पाक में मो. युसुफ को कप्तान...

वही सीनियर था। मैं इन दिनों बाहर हूं। ज्यादा कुछ पता नहीं। वही डीज़र्विंग था।

मीडिया कह रहा है कि युसुफ को मजहब बदलने का फायदा मिला।

यह बिलकुल गलत है। तीन दिन पहले मैंने इंटरव्यू किया (वसीम ईएसपीएन के कमेन्टेटर हैं)। उसने कहा, मैं मर्जी से मुसलमान बना। यह मीडिया का सही इंटरप्रिटेशन नहीं है।

इंडियन टीम में फेवरेट कौन है?

इरफान पठान और वीरेंद्र सहवाग।

पाकिस्तान में अब तक का बेस्ट प्लेयर?

इमरान खान इज द बेस्ट।

एज ए पॉलिटिशियन?

अभी नए हैं पॉलिटिक्स में इमरान।

आप सियासत में जाएंगे?

कह नहीं सकता। हां भी, ना भी।

मुशर्रफ कैसे प्रेसिडेंट हैं?

डेमोक्रेसी इज द बेस्ट। लेकिन मुशर्रफ बेहतर साबित हो रहे हैं।

सचिन के बारे में ?

सचिन अब बूढ़ा हो गया है।

और सौरव का जाना?

जाते सभी हैं, लेकिन जिस तरह उन्हें हटाया गया वह बहुत खराब था।

आप हिन्दी फिल्में देखते हैं?

हां, लास्ट ओमकारा´ देखी। कमाल का काम किया सैफ, अजय ने।

और करीना।

आई लाइक करीना वेरी मच। रानी मुखर्जी भी ब्लैक´ में बहुत अच्छी लगीं। एक्टर में अमिताभ बच्चन के अलावा कोई नहीं।

सिंगर्स में?

लता, आशा, सोनू निगम, नुसरत फतह अली खां व गुलाम अली। अंग्रेजी गाने नहीं सुनता।
आप ये सब कहां देख लेते हैं?

इधर आपके यहां फिल्म रिलीज होती है, उससे पहले हमारे यहां सीडी आ जाती है।

पाकिस्तान में मल्टीप्लैक्स का कोई बूम नहीं है?

नहीं, पता नहीं क्यूं। वहां मार्केट डेवलप नहीं हो पा रहा। इंडिया तो तेजी से ग्रो कर रहा है। कोई शक नहीं कि इंडिया सुपर पॉवर होगा। मैं दिल्ली, इंदौर, लखनऊ, चंडीगढ़ कई शहरों में गया हूं। इकॉनामिकली दे आर ऑल बूमिंग।

अब तो पूरे साल क्रिकेट खेली जा रही है।

यह बहुत अच्छा है। ज्यादा क्रिकेट, ज्यादा पैसा होना चाहिए। और खेलों के मुकाबले क्रिकेट में पैसा कम है।

डायबिटीज के साथ जीवन कैसा होता है?

मुझे दस साल से डायबिटीज है। खान-पान और एक्ससाइज में डिसिप्लिन बहुत जरूरी है। दिन में दो बार शुगर चेक कर लेता हूं, कोई परेशानी नहीं आती है।

8 comments:

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi said...

इमरान तो बहुत पॉलिश्‍ड हैं। कहीं अड़ने का नाम ही नहीं। सालों लम्‍बे कैरियर ने उन्‍हें पर्याप्‍त चिकना कर दिया है।

Kishore Choudhary said...

बातचीत अच्छी लगी
वैसे मैं क्रिकेट कम ही पसंद करता हूँ फिर भी कपिल देव, वसीम अकरम, शेन बौंड जैसे खिलाड़ी पसंद है इस खेल में बल्लेबाज अंहकार का प्रतीक है जबकि गेंदबाज सागर की लहर जो अपने साथ सब बहा ले जाना चाहती हैं. ओमकारा मैंने देखी थी वसीम साहब को जरूर पसंद आनी थी. सियासत तो अल्टीमेट पॉवर है किसको बख्शेगी ?

अशोक कुमार पाण्डेय said...

kya gazab ka khiladi tha...

सैयद | Syed said...

बातचीत अच्छी लगी.

cartoonist ABHISHEK said...

पढ़े हुए को फिर से पढ़ना..
अपने आप में अधभुत आनंद देता है..
पुराणी स्मृतियाँ ताजी हो जाती है..

तुम्हरी पोटली में बहुत कुछ है....
ऐसे ही धीमें धीमें पढाते रहो...

cartoonist ABHISHEK said...

पढ़े हुए को फिर से पढ़ना..
अपने आप में अधभुत आनंद देता है..
पुराणी स्मृतियाँ ताजी हो जाती है..

तुम्हरी पोटली में बहुत कुछ है....
ऐसे ही धीमें धीमें पढाते रहो...

anil said...

बहुत बढ़िया अच्छी बातचीत थी धन्यवाद .

Dileepraaj Nagpal said...

Purani Kitaben Zyada Achi Hoti Hain..Mere Khyaal Se...